अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस – 2018, शांतिवन, अबू रोड, राजस्थान

योग और राजयोग से बदलेगी तन-मन की सूरत, एक महीने तक देंगे ‘योग’ का संदेश

– अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में मेडिकल विंग एवं ब्रह्माकुमारीज का योग कैंपेन शुरू

– 21 जून तक विश्वभर के सेवाकेंद्रों पर होंगे आयोजन

– भारत सरकार ने देशभर के 18 जिलों की जिम्मेदारी सौंपी

– चार जिले राजस्थान के भी शामिल

mount Abu

abu road yoga day

21 मई, आबू रोड। 21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में ब्रह्माकुमारी संस्थान के सहयोगी संस्था (मेडिकल विंग) राजयोग एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन तथा आयुष मंत्रालय के संयुक्त तत्वाधान में योग कार्यक्रम का आयोजन किया गया। ब्रह्माकुमारीज संस्थान एक महीने तक पूरे राजस्थान में योग कैंपेन चलायेगा। इसकी विधिवत शुरुआत सोमवार को शांतिवन परिसर में धूमधाम से की गई। ब्रह्माकुमारीज  द्वारा अपने विश्वभर में स्थित सेवाकेंद्रों पर महीने भर तक लोगों को योग का संदेश देने और योग के प्रति जागरुकता लाने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इनके माध्यम से लोगों को प्राणायाम, शारीरिक योग और राजयोग मेडिटेशन के फायदों से रूबरू कराया जाएगा।

सोमवार को शांतिवन परिसर में सुबह 6 बजे नि:शुल्क योग कैंप आयोजित किया गया था । कार्यक्रम की शुरुआत अतिथियों ने दीप प्रज्जवलन के साथ की। शारीरिक योग और राजयोग मेडिटेशन का महत्व बताते हुए संस्था की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी ने कहा कि शारीरिक योग, प्राणायाम से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है, वहीं राजयोग मेडिटेशन से हमारी आत्मा की शक्तियां जागृत हो जाती हैं। इससे मन शक्तिशाली हो जाता है और मन में सकारात्मक व शुद्ध विचार उत्पन्न होने लगते हैं।

आत्म स्मृति में रहकर करें कर्म

दादी ने कहा कि ओम शांति मंत्र हमारी आत्म स्मृति का प्रतीक है। मैं आत्मा इस शरीर को चलाने वाली पवित्र आत्मा हूं। जब हम मन में अच्छे और शुभ संकल्प करते हैं तो वैसे ही हमारे स्वभाव संस्कार बन जाते हैं। हम सभी आत्माओं के पिता परमपिता शिव परमात्मा हैं। जिन्हें इन आंखों से नहीं देखा जा सकता है। उनकी तो सिर्फ अनुभूति की जा सकती है। इस शरीर के अंदर एक चैतन्य शक्ति आत्मा कार्य कर रही है। यदि इस स्मृति में रहकर कार्य करेंगे तो विकर्म नहीं बनेंगे।

सिरोही भाजपा के जिलाध्यक्ष लुंबाराम चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हमारी भारतीय संस्कृति के प्रतीक योग को पूरे विश्व में फैलाया है। आज योग का महत्व पूरी दुनिया समझने लगी है। ब्रह्माकुमारी संस्थान का यह प्रयास बहुत अच्छा है जो महीने भर तक योग के कार्यक्रम चलाएंगे। माउण्ट आबू पालिकाध्यक्ष सुरेश थिंगर ने कहा कि यह सुखद है कि ब्रह्माकुमारीज संस्थान ने एक महीने तक योग के लिए पूरे राजस्थान में जागृति लायेगा।

आठ हजार हृदय रोगी हुए ठीक

योग कैंपेन की जानकारी देते हुए मेडिकल विंग के कार्यकारी सचिव डॉ. बनारसीलाल शाह ने कहा कि योग तो हमारी प्राचीन संस्कृति में शामिल रहा है। योग भारत की परंपरा रहा है। इसका महत्व आज पूरी दुनिया समझने लगी है। राजयोग मेडिटेशन के प्रयोग से आज आठ हजार से अधिक हृदय रोगी स्वस्थ हो गए हैं। उनका हार्ट के ब्लॉकेज अब पूरी तरह से खुल गए हैं और सामान्य जिंदगी जी रहे हैं। भारत सरकार ने देशभर के 18 जिलों में योग कराने की जिम्मेदारी संस्थान को सौंपी है। इनमें राजस्थान के सिरोही, नागौर, भीलवाड़ा और जालौर, गुजरात के छोटा उदयपुर, डांग, नर्मदा, और सुरेंद्रनगर,  कर्णाटक के शिवमोगा, तुमकुर, बेल्लारी, चित्रदुर्गा और दावनगिरी महारास्ट्र के कोल्हापुर, केरल के यर्नाकुलम, आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिलों में योग के कार्यक्रमों की जिम्मेदारी दी गई है।

योग का महत्व पूरी दुनिया समझने लगी है

शांतिवन के मुख्य अभियंता बीके भरत भाई ने कहा कि आज इस पावन परिसर से योग कार्यक्रम की शुरुआत की जा रही है। इससे महीने भर तक लोगों को योग के फायदों से रूबरू कराया जाएगा। इसका लाभ हजारों लोगों को मिलेगा जो उनके जीवन परिवर्तन में सहायक होगा।

योगाचार्य ने कराए विभिन्न आसन…

कार्यक्रम के शुभारंभ के पूर्व 2004 से योगा करा रहे सुमेरपुर के वरिष्ठ योग शिक्षक व सेवानिवृत्त प्राचार्य हनुमांत सिंह ने कैंप में शामिल स्कूल विद्यार्थियों, गणमान्य लोगों, अतिथियों और ब्रह्माकुमारी संस्थान के भाई-बहनों को योग के विभिन्न आसन बताए। उन्होंने बताया कि किस आसन के प्रयोग से हम किस रोग को ठीक कर सकते हैं। साथ ही उनका महत्व बताते हुए सभी से अभ्यास कराया। इस दौरान सभी ने उत्साह के साथ योग के आसन किए और इन्हें आगे भी जारी रखने का संकल्प लिया। इस मौके पर पतंजलि युवा भारत विंग के स्टेट को-ऑर्डिनेटर नरेन्द्र आस्था, भारत स्वाभिमान विंग के स्टेट काउंसिल मैंबर संस्थान की मैनेजर मुन्नी बहन, ज्ञानामृत मैग्जीन के संपादक बीके आत्म प्रकाश भाई, ग्लोबल अस्पताल माउंट आबू के डायरेक्टर डॉ. प्रताप मिड्ढा, गॉडलीवुड स्टूडियो के कार्यकारी निदेशक बीके हरीलाल योग शिक्षक कमलेश भाई, राकेश भाई, बीके भानू, बीके मोहन, बीके अनूप, बीके धीरज, बीके अमरदीप, बीके कृष्णा, बीके जीतू समेत सहित तीन हजार से अधिक भाई-बहन उपस्थित रहे।

SHARE